Surya Grahan 2020

सूर्य ग्रहण: 900 साल बाद लग रहा ऐसा सूर्य ग्रहण, जानिए सूतक काल का समय

21 जून को साल का पहला सूर्य ग्रहण (Solar Eclipse) लग रहा है। ये ग्रहण आषाढ़ मास की अमावस्या पर लग रहा है और ये खण्डग्रास सूर्य ग्रहण (Solar Eclipse) होगा। बताया जा रहा है कि इस तरह का ग्रहण करीब 900 साल बाद लग रहा है। रविवार को ग्रहण लगने के कारण इसे चूणामणि ग्रहण कहा जा रहा है। ये 6 घंटे का लम्बा ग्रहण है। सूर्य ग्रहण (Solar Eclipse) भारत सहित दक्षिण पूर्व यूरोप, हिंद महासागर, प्रशांत महासागर, अफ्रीका, अमेरिका, पाकिस्तान और चीन के कुछ हिस्सों में भी दिखाई देगा।

सूर्य ग्रहण का समय
सूर्य ग्रहण (Solar Eclipse) रविवार 21 जून की दोपहर 12 बजकर 10 मिनट पर कुछ देर के लिए हल्का अंधेरा छा जाएगा। सूर्य ग्रहण भारत के अलावा अमेरिका, दक्षिण पूर्व यूरोप और अफ्रीका में भी दिखाई देगा।  सूर्य ग्रहण रविवार की सुबह 9:15 बजे शुरू हो जाएगा और दोपहर 03:04 बजे समाप्त होगा ।

12 घंटे पहले लगेगा सूतक
ग्रहण का सूतक (Sutak) 12 घंटे पहले लग जाता है और ग्रहण खत्म होने तक रहता है। 20 जून शनिवार की रात 09 बजकर 52 मिनट में ही सूतक काल (Sutak Timing) शुरू जाएगा और ग्रहण खत्म होने तक रहेगा। सूतक काल (Sutak Timing) में कोई शुभ कार्य नहीं किया जाता है इस समय को सामान्यतया अशुभ माना जाता है। घर में बने पूजास्थल को भी सूतक काल से लेकर ग्रहण तक ढक कर रखते हैं।

जानिए कब लगता है सूर्य ग्रहण
जब सूर्य और पृथ्वी के बीच में चंद्रमा आ जाता है और सूर्य की किरणें पृथ्वी तक नहीं पहुंच पातीं तो इस स्थिति को सूर्य ग्रहण (Solar Eclipse) कहते हैं ।