Vikash dubey friend arrested

Kanpur Encounter: विकास दुबे का साथी दयाशंकर गिरफ्तार, पुलिस की पूछताछ में हुआ बड़ा खुलासा

कानपुर. आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के मामले में यूपी पुलिस की टीम मामले के मुख्य आरोपी विकास दुबे (Vikash Dubey) की तलाश में छापेमारी में जुटी है, मगर अब तक उसका कोई सुराग नहीं मिल पाया है । वहीं पुलिस ने विकास दुबे (Vikash Dubey) के खास गुर्गे दयाशंकर को रविवार को गिरफ्तार किया है। दयाशंकर घटना के वक्त विकास दुबे के साथ मौके पर मौजूद था। दयाशंकर से पुलिस पूछताछ में जुटी है। पूछताछ के दौरान दयाशंकर ने बड़ा खुलासा किया है। दयाशंकर के मुताबिक गोलीबारी से पहले विकास दुबे के मोबाइल पर फोन आया था, जिसके बाद बाहर से 25- 30 लोग बुलाये गये थे। खुद विकास दुबे ने भी गोली चलाई थी।

इनामी राशि बढ़ाई गई:
बता दें कि यूपी पुलिस ने विकास दुबे (Vikash Dubey) पर इनाम की राशि को पचास हजार से बढ़ाकर एक लाख रुपये कर दिया गया है, साथ ही 18 अन्य नामजद अभियुक्तों पर 25,000, 25,000 रुपये का इनाम घोषित किया गया है । विकास दुबे पर 60 से ज्यादा आपराधिक मुकदमे हैं । कानपुर के आईजी मोहित अग्रवाल ने कहा है कि विकास दुबे और उसके साथियों को पुलिस लगातार ट्रेस कर रही है । राज्य की सीमा से लगे जिलों में अलर्ट जारी है, हाइवे पर विशेष नजर रखी जा रही है । पुलिस की 50 से ज्यादा टीमें उसकी तलाश में जुटी है । औरैया-दिबियापुर बाईपास के पास रविवार को लावारिस मिली फोर्ड कार भी मिली है, पुलिस जिसकी भी जांच कर रही है ।

शनिवार को गिराया था विकास दुबे का मकान
शनिवार को कानपुर पुलिस ने बड़ी कार्रवाई करते हुए विकास दुबे के बिठूर स्थित आवास को जेसीबी से गिरवा दिया। गाड़ियों को भी नष्ट कर दिया गया। वहीं चौबेपुर थाना प्रभारी विनय तिवारी को विकास दुबे के खिलाफ मामले में लापरवाही बरतने के आरोप में निलंबित भी कर दिया गया है ।

आठ पुलिसकर्मी हुए थे शहीद:
बता दें कि गुरूवार रात कानपुर के बिठुर में हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को गिरफ्तार करने पहुंची पुलिस टीम पर अपराधियों ने अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी थी । इस गोलीबारी में डीएसपी सहित आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गये थे।