Jharakhand Upsc toppers

UPSC सिविल सेवा परीक्षा में टॉप टेन में झारखंड का लाल, जानिये राज्य में कितने उम्मीदवार सफल हुए

रांची. यूपीएससी की सिविल सेवा परीक्षा का परिणाम मंगलवार को जारी किया गया। झारखंड के लाल रवि जैन में परीक्षा में टॉप टेन में जगह बनाकर राज्य का मान बढ़ाया है। रवि के अलावा कई अन्य उम्मीदवारों ने भी इस साल परीक्षा में सफलता हासिल की है।

देवघर के रवि जैन को मिला 9वां रैंक
रवि जैन को यूपीएससी की परीक्षा में देश भर में 9वां रैंक मिला है। रवि बिहार के जमुई जिला में सेल्स टैक्स ऑफिसर के पद पर कार्यरत हैं। पिछले साल ही उन्होंने बीपीएससी की परीक्षा पास की थी। रवि जैन देवघर के जैन मंदिर गली के रहने वाले हैं।

हज़ारीबाग के दीपांकर को 42वां रैंक
हजारीबाग के रहने वाले दीपांकर राय ने भी यूपीएससी की परीक्षा में सफलता हासिल की है। दीपांकर राय को 42वां रैंक मिला है। दीपांकर के पिता रविरंजन हजारीबाग में एसडीओ रह चुके हैं। हजारीबाग के ही प्रियांक किशोर को 61वां रैंक मिला है।

बिहार के प्रदीप को यूपीएससी की परीक्षा में 26वां रैंक, पिता ने बेटे की पढ़ाई के घर बेच दिया था 

गढ़वा के शिवेंदु भूषण को 83वां रैंक
गढ़वा के शिवेंदु भूषण ने भी यूपीएससी की परीक्षा में सफलता हासिल की है। उन्हें 83वां रैंक मिला है। शिवेंदु भूषण गढ़वा शहर के सहिजना के निवासी हैं।

रांची की अनुपमा को 90वां रैंक
रांची की अनुपमा को सिविल सेवा की परीक्षा में सफलता मिली है। अनुपमा को परीक्षा में 90वां रैंक मिला है। रांची की ही डॉ आकांक्षा खलखो को 467वां रैंक मिला है।

 

UPSC सिविल सेवा परीक्षा में बिहार ने फिर लहराया परचम, जानिये कितने उम्मीदवार सफल हुए 

धनबाद की हर्षा को 165वां रैंक
धनबाद की रहने वाली डॉक्टर हर्षा प्रियंवदा ने यूपीएससी की परीक्षा में 165वां रैंक हासिल किया है। हर्षा के माता- पिता दोनों डॉक्टर हैं। पिता डॉ. धर्मेंद्र कुमार पीएमसीएच धनबाद में नेत्र रोग विशेषज्ञ हैं। हर्षा की मां डॉ. रेखा नायक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र चासनाला में पोस्टेड हैं।

पाकुड़ की कुमकुम को 306वां रैंक
पाकुड़ की रहने वाली कुमकुम सेन ने यूपीएससी की परीक्षा में 306 वीं रैंक हासिल की है। पांचवें प्रयास में उन्हें यह सफलता मिली है। पिछले साल वह मेंस तक पहुंच गई थी। 2016 और 2017 की परीक्षा में वह साक्षात्कार में शामिल हुईं थी।

राज्य में तीन आदिवासी युवाओं को भी सफलता मिली है। रांची के लोआडीह निवासी डॉ आकांक्षा शिक्षा खलखो, रीना हांसदा और रोबिनसन गुड़िया शामिल हैं। डॉ आकांक्षा शिक्षा खलखो के माता- पिता दोनों डॉक्टर हैं।