Pranab Mukharjee

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का 84 साल की उम्र में निधन, कोरोना रिपोर्ट आई थी पॉजिटिव

नई दिल्ली. पूर्व राष्ट्रपति और भारत रत्न से सम्मानित प्रणब मुखर्जी (Pranab Mukherjee) का सोमवार को निधन हो गया। 84 साल के प्रणब मुखर्जी (Pranab Mukherjee) काफी लंबे समय से बीमार थे। 21 दिन पहले उनकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। हाल ही में उनकी ब्रेन सर्जरी भी हुई थी। दिल्ली के आर्मी रिसर्च एंड रेफरल (आर एंड आर) हॉस्पिटल में उनका इलाज चल रहा था।

10 अगस्त को प्रणब मुखर्जी (Pranab Mukherjee) ने खुद कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने की जानकारी दी थी। पिछले एक हफ्ते से उनकी हालत ज्यादा खराब हो गई थी, जिसके बाद उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था। सोशल मीडिया पर कई बार उनके निधन की अफवाह भी उड़ी थी। सोमवार की शाम उनका निधन हो गया।

कांग्रेस प्रवक्ता राजीव त्यागी का निधन, टीवी डिबेट के बाद अचानक बिगड़ी थी तबीयत

प्रणब मुखर्जी (Pranab Mukherjee) का जन्म पश्चिम बंगाल के मिराती गांव में 11 दिसंबर 1935 को हुआ था। उन्होंने कलकत्ता विश्वविद्यालय से पॉलिटिकल साइंस और हिस्ट्री में एमए किया। 1963 में वह कोलकाता के विद्यानगर कॉलेज में पॉलिटिकल साइंस के लेक्चरर भी रहे। प्रणब मुखर्जी के राजनीतिक जीवन की शुरुआत 1969 में हुई थी 1969 में ही प्रणब राज्यसभा के लिए चुने गए। इसके बाद 1975, 1981, 1993 और 1999 में राज्यसभा के लिए चुने गए। वह 25 जुलाई 2012 से 25 जुलाई 2017 तक भारत के राष्ट्रपति रहे। साल 2019 में उन्हें भारत रत्न से सम्मानित किया गया था।

भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राहुल गांधी ने उनके निधन पर शोक जताया है। इसके अलावा कई केंद्रीय मंत्रियों ने भी उनके निधन पर दुख जताया है।

टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली और रोहित शर्मा ने उनके निधन पर शोक जताते हुए उन्हें श्रद्धांजलि दी है।