Bihar Unlock

चुनावी साल में नीतीश सरकार का दलित कार्ड, SC/ST व्यक्ति की हत्या होने पर परिवार को नौकरी

पटना. बिहार में विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) को लेकर उल्टी गिनती शुरू हो गई है। चुनावी साल में बिहार की नीतीश सरकार का ‘दलित प्रेम’ एक बार फिर जागा है। नीतीश सरकार (Nitish Government) ने बिहार में एससी/एसटी समुदाय से जुड़े व्यक्ति की हत्या होने पर परिवार को नौकरी देने का प्रस्ताव लाई है। सीएम ने इस संबंध में तुरंत निर्णय बनाने का निर्देश दिया है।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) ने अनुसूचित जाति ए‌वं अनुसूचित जनजाति कल्याण (अत्याचार निवारण) अधिनियम के तहत गठित राज्य स्तरीय सतर्कता और मॉनीटरिंग समिति की शुक्रवार को हुई बैठक के दौरान इस संबंध में दिशानिर्देश दिये। सीएम ने कहा कि साथ ही साथ एससी/ एसटी समुदाय को विभिन्न योजनाओं का लाभ जल्द मुहैया कराने के लिए मुख्य सचिव अपने स्तर से इसकी समीक्षा करें। सीएम नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) ने नई योजनाओं को चलाने की भी बात भी कही है।

Bihar Election के साथ देश की 65 सीटों पर होगा उपचुनाव, इस तारीख से पहले बिहार में हो जायेंगे चुनाव 

जीतनराम मांझी ने की तारीफ:

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और हाल ही में महागठबंधन का साथ छोड़कर एनडीए में शामिल हुए जीतन राम मांझी (Jeetan Ram Manjhi) ने नीतीश सरकार के फैसले की तारीफ की है। जीतन राम मांझी ने कहा कि एससीएसटी की धारा 3(2)5 को पूरे देश में लागू किया जाये।धारा लागू होने से एससी-एसटी परिवार के किसी सदस्य की हत्या होने पर परिवार के सदस्य को सरकारी नौकरी मिलेगी।

Bihar Election: ओवैसी की पार्टी AIMIM बिहार की 50 विधानसभा सीटों पर उतारेगी प्रत्याशी

बता दें कि राज्य में अक्टूबर नवंबर में चुनाव होना है। चुनाव से पहले नीतीश सरकार इसके जरिये दलित वोट बैंक को साधने की कोशिश में हैं।