Categories

September 26, 2022

Boundary Line Newsportal

News Innovate Your World

बिहार: कोसी रेल महासेतु सहित रेलवे की 12 परियोजनाओं की पीएम मोदी ने दी सौगात

1 min read
Kosi rail Mahasetu

Kosi rail Mahasetu

पटना. चुनावी साल में बिहार को लगातार कई सौगात मिल रही है. शुक्रवार को पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने बिहार को रेलवे की 12 परियोजनाओं की सौगात दी. इसमें सबसे ज्यादा अहम कोसी रेल महासेतु (Kosi Rail Mahasetu) का उद्घाटन था. कोसी रेल महासेतु (Kosi Rail Mahasetu) का निर्माण 17 साल में पूरा हुआ है. पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने साल 2003 में इसकी नींव रखी थी. इस महासेतु के निर्माण में 516 करोड़ की लागत आई है. इस महासेतु के शुरू होने से कोसी क्षेत्र मिथिलांचल से जुड़ गया.

1.9 किलोमीटर लंबे इस रेल पुल के शुरू होते ही निर्मली से सरायगढ़ की 298 किलोमीटर की दूरी घटकर महज 22 किलोमीटर रह जाएगी। फिलहाल निर्मली से सरायगढ़ तक के सफर के लिए लोगों को दरभंगा- समस्तीपुर- खगड़िया- मानसी-सहरसा होते हुए 298 किमी की दूरी तय करनी पड़ रही थी.

इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा कि कोसी महासेतु (Kosi Rail Mahasetu) होते हुए सुपौल-आसनपुर कुपहा के बीच ट्रेन सेवा शुरू होने से सुपौल, अररिया और सहरसा जिले के लोगों को बहुत लाभ होगा. यही नहीं, इससे नॉर्थ ईस्ट के साथियों के लिए एक वैकल्पिक रेलमार्ग भी उपलब्ध हो जाएगा.कोसी और मिथिला क्षेत्र के लिए ये महासेतु सुविधा का साधन तो है ही, ये इस पूरे क्षेत्र में व्यापार-कारोबार, उद्योग-रोजगार को भी बढ़ावा देने वाला है.

बिहार के किशनगंज में उद्घाटन से पहले ही धराशाई हुआ करोड़ों की लागत से बना पुल, देखें वीडियो

उन्होंने कहा कि करीब साढ़े आठ दशक पहले भूकंप की एक भीषण आपदा ने मिथिला और कोसी क्षेत्र अलग-थलग कर दिया था. आज ये संयोग ही है कि कोरोना जैसी वैश्विक महामारी के बीच इन दोनों आंचलों को आपस में जोड़ा जा रहा है। आज बिहार में रेल कनेक्टिविटी के क्षेत्र में नया इतिहास रचा गया है. कोसी महासेतु (Kosi Rail Mahasetu) और किउल ब्रिज के साथ ही बिहार में रेल यातायात, रेलवे के बिजलीकरण, रेलवे में मेक इन इंडिया को बढ़ावा देने, नए रोजगार पैदा करने वाले एक दर्जन प्रोजेक्ट्स का आज शुभारंभ हुआ है. जब नीतीश जी रेल मंत्री थे, जब पासवान जी रेल मंत्री थे, तो उन्होंने भी इस समस्या को दूर करने के लिए बहुत प्रयास किया था. लेकिन फिर एक लंबा समय वो आया, जब इस दिशा में ज्यादा काम ही नहीं किया गया.

12 रेल परियोजनाओं की सौगात:
पीएम मोदी ने शुक्रवार को हाजीपुर-वैशाली नई लाइन पर पैसेंजर ट्रेन, इस्लामपुर-नटेसर नई लाइन पर पैसेंजर ट्रेन, कटिहार-न्यूजलपाईगुड़ी रेलखंड पर ट्रेन, सीतामढ़ी से इलेक्ट्रिक इंजन से ट्रेन का परिचालन और सुपौल-सरायगढ़-आसनपुर कुपहा-राघोपुर रेलखंड में डीएमयू का शुभारंभ भी किया. इसके अलावा पीएम ने समस्तीपुर-दरभंगा-जयनगर, समस्तीपुर से खगड़िया, शिवनारायणपुर से भागलपुर, कटिहार-न्यूजलपाईगुड़ी और सीतामढ़ी से मुजफ्फपुर के बीच नए विद्युतीकरण किए गए रेल खंड का शुभारंभ किया. पीएम ने बिहार में बने चार नई रेललाईन और बाढ़-बख्तियारपुर के बीच बने तीसरी लाइन को भी राष्ट्र को समर्पित किया. बरौनी में बने नए लोको शेड और सहरसा-सरायगढ़- राघोपुर मार्ग पर हुए गेज परिवर्तन को भी राष्ट्र को समर्पित किया गय़ा.

Leave a Reply

Your email address will not be published.