Categories

September 26, 2022

Boundary Line Newsportal

News Innovate Your World

पंचतत्व में विलीन हुए रामविलास पासवान, बेटे चिराग ने दी मुखाग्नि, अंतिम यात्रा में उमड़ा जनसैलाब

1 min read
Ramvilas Paswan cremation

रामविलास पासवान की अंतिम यात्रा

पटना. केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान (Ramvilas Paswan) का शनिवार को पटना के दीघा के जर्नादन घाट पर अंतिम संस्कार किया गया. रामविलास पासवान (Ramvilas Paswan) के बेटे चिराग पासवान (Chirag Paswan) ने पिता को मुखाग्नि दी. पिता को मुखाग्नि देते वक्त चिराग बेहोश होकर गिर पड़े. वहीं रामविलास पासवान (Ramvilas Paswan) के अंतिम संस्कार में जनसैलाब उमड़ पड़ा. बिहार के सीएम नीतीश कुमार, डिप्टी सीएम सुशील मोदी सहित कई नेता दीघा घाट पर अंतिम संस्कार में शामिल हुए. इस दौरान रामविलास पासवान के कई समर्थक रोते हुए नजर आये. हाजीपुर लोकसभा क्षेत्र से सबसे ज्यादा लोग उनके अंतिम संस्कार में पहुंचे थे.

इससे पहले रामविलास पासवान (Ramvilas Paswan) के पार्थिव शरीर को पटना स्थित लोक जनशक्ति पार्टी (एलजेपी) के दफ्तर में रखा गया था, जहां पर अंतिम दर्शन के लिए लगातार लोगों की भीड़ पहुंचती रही. सीएम नीतीश कुमार के अलावा केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद, बिहार के डिप्टी सीएम सुशील मोदी और आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने पार्टी कार्यालय पहुंचकर उन्हें श्रद्धांजलि दी. उनके अंतिम दर्शन के लिये ना सिर्फ बिहार बल्कि राज्य के बाहर के लोग पहुंचे थे.

केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का निधन, बिहार के सियासी गलियारों में शोक की लहर

रामविलास पासवान (Ramvilas Paswan)  का लंबी बीमारी के बाद गुरुवार शाम दिल्ली में निधन हो गया था. 74 साल के रामविलास पासवान कई दिनों से अस्पताल में भर्ती थे. शुक्रवार को उनका पार्थिव शरीर शाम पांच बजे दिल्ली से पटना पहुंचा था.

रामविलास पासवान ने 1983 में बनाई थी दलित सेना, पहली बार जनता पार्टी के टिकट पर बने थे सांसद

पांच जुलाई 1946 को बिहार के खगड़िया जिले के शाहरबन्‍नी के एक दलित परिवार में जन्‍मे रामविलास पासवान (Ramvilas Paswan) की गिनती बिहार ही नहीं, देश के कद्दावर सामाजिक और दलित राजनेताओं में की जाती थी. जयप्रकाश नारायण के दौर में वे भारतीय राजनीति में उभरे थे और तब से लगातार केंद्रीय राजनीति में सक्रिय रहे. रामविलास पासवान ((Ramvilas Paswan) बिहार से राज्यसभा सांसद थे. वह पहली बार 1977 में सांसद बने थे और वह कई सरकार में केंद्रीय मंत्री रहे. उन्होंने छह प्रधानमंत्री के साथ काम किया. रामविलास पासवान ने बिहार के हाजीपुर लोकसभा क्षेत्र का कई बार प्रतिनिधित्व किया.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.