Categories

December 5, 2021

Boundary Line Newsportal

News Innovate Your World

जानिये कौन हैं स्नेहा दुबे, जिन्होंने यूएन के मंच पर पाकिस्तान की बखिया उधेड़ी

1 min read
Sneha Dubey

Sneha Dubey (Photo-Social Media)

संयुक्त राष्ट्र महासभा के मंच पर पाकिस्तान को कटघरे में खड़ा करने वाली भारत की आईएफएस अधिकारी स्नेहा दुबे (Sneha Dubey) इस समय काफी चर्चा में आ गई है. सोशल मीडिया पर लोग स्नेहा दुबे के बारे में जानना चाह रहे हैं.

पीएम नरेंद्र मोदी के अमेरिका दौरे के दौरान संयुक्त राष्ट्र महासभा के मंच पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) के भाषण के बाद राइट टू रिप्लाई के तहत भारत की साल 2012 बैच की आईएफएस अधिकारी स्नेहा दुबे (Sneha Dubey) ने करारा जबाव दिया.

इमरान खान ने क्या कहा ?

दरअसल पाकिस्तानी पीएम इमरान खान ने इस्लामोफोबिया का जिक्र करते हुए इसका सबसे ज्यादा असर हिंदुस्तान में हो रहा है. हिंदुत्व समर्थक भाजपा और आरएसएस के शासन में भारत के 20 करोड़ मुस्लिमों के खिलाफ दहशत और हिंसा को बढ़ावा दिया जा रहा है. गोरक्षा के नाम पर मॉब लिंचिंग की घटनाएं बढ़ रही हैं. सीएए के रूप में भेदभावपूर्ण नागरिकता कानून थोपकर मुसलमान का सफाया किया जा रहा है. इसके अलावा उन्होंने जम्मू कश्मीर में नौ लाख सशस्त्र बलों की तैनाती, वरिष्ठ कश्मीरी नेताओं को नजरबंद करने, मीडिया और इंटरनेट पर रोक लगाने, शांतिपूर्ण विरोधों को दबाने का आरोप भी लगाया.

स्नेहा दुबे ने दिया तगड़ा जवाब:

स्नेहा दुबे (Sneha Dubey) ने अपने जवाब में पाकिस्तान के पीएम को कटघरे में खड़ा करते हुए कहा कि भारत के अंदरूनी मामलों को दुनिया के मंच पर लाने और झूठ फैलाकर भारत की छवि को धूमिल करने की कोशिश पाकिस्तान की तरफ से की जा रही है. पाकिस्तान वही देश है जहां आतंकवादी स्वतंत्र हैं. अपने पड़ोसियों को परेशान करने के लिए पीछे से वह आतंकवाद को प्रायोजित करता है. वह अपने यहां आतंकवादियों को इस उम्मीद में स्वततंत्रता देता है कि वे केवल अपने पड़ोसियों को नुकसान पहुंचाएंगे.

कौन हैं स्नेहा दुबे:

स्नेहा दुबे (Sneha Dubey) का का जन्म झारखंड के जमशेदपुर शहर में हुआ था. उनके पिता जेपी दुबे जमशेदपुर के केबल कंपनी में इंजीनियर के पद पर कार्यरत थे. उनका परिवार केबल टाउन में ही रहता था. साल 2000 में कंपनी के अचानक से बन्द हो जाने के बाद स्नेहा दुबे का पूरा परिवार गोवा चला गया. वहां उनके पिता को फिनोलेक्स केबल कंपनी में जॉब मिल गई. स्नेहा की प्रारंभिक शिक्षा वहीं से हुई. स्नेहा ने गोवा के ही फर्ग्युसन कॉलेज से ग्रेजुएशन किया. उसके बाद उन्होंने जेएनयू से एमए और एमफिल की डिग्री हासिल की. स्नेहा दुबे ने पहले ही प्रयास में पीएससी में सफलता हासिल की. आईएफएस में उनकी पहली ड्यूटी विदेश मंत्रालय में मिली. 2014 में उन्हें भारतीय दूतावास मैड्रिड भेजा गया. स्नेहा दुबे वर्तमान में संयुक्त राष्ट्र महासभा में भारत की प्रथम सचिव हैं.

लेटेस्ट खबरों के लिये Boundaryline.in पर क्लिक करें. आप हमसे फेसबुक और ट्विटर के माध्यम से भी जुड़ सकते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *