Categories

February 23, 2024

Boundary Line Newsportal

News Innovate Your World

नीतीश कुमार ने रिकॉर्ड आठवीं बार सीएम पद की शपथ ली, तेजस्वी यादव बने डिप्टी सीएम

1 min read
Nitish Kumar CM

(Photo-Social Media)

पटना. नीतीश कुमार ने रिकॉर्ड आठवीं बार बिहार के सीएम पद (Nitish Kumar CM) की शपथ ले ली है. वहीं तेजस्वी यादव ने डिप्टी सीएम के रूप में दूसरी बार शपथ ली. राज्यपाल फागू चौहान ने बुधवार को दोनों को शपथ दिलाई.  शपथ ग्रहण के बाद तेजस्‍वी ने मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार का पैर छूकर आशीर्वाद लिया. वहीं शपथ ग्रहण समारोह से बीजेपी ने दूरी बनाई.

वहीं शपथ ग्रहण के बाद मीडिया से बातचीत के दौरान सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि मेरे साथ बीजेपी ने जो भी किया, वह ठीक नहीं था, इस कारण बीजेपी का साथ छोड़कर महागठबंधन में आने का फैसला करना पड़ा.

वहीं तेजस्वी यादव ने कहा कि महागठबंधन इतना मजबूत है कि विधानसभा में विपक्ष में सिर्फ भाजपा बचेगी. भाजपा द्वारा सांप्रदायिक तनाव फैलाया जा रहा था, वे क्षेत्रीय दलों को खत्म करने की कोशिश कर रहे हैं. तेजस्वी ने कहा कि हम युवाओं को एक महीने के भीतर बंपर नौकरी देंगे, यह इतना भव्य होगा कि ऐसा पहले कभी नहीं हुआ.

वहीं शपथ ग्रहण समारोह के बाद राबड़ी देवी के आवास के बाहर समर्थकों ने जमकर जश्न मनाया और आतिशबाजी की. वहीं बुधवार को महागठबंधन सरकार के खिलाफ कई जगहों पर बीजेपी की तरफ से प्रदर्शन भी किया गया.

सबसे ज्यादा बार सीएम बनने वाले पहले देश के पहले मुख्यमंत्री:

नीतीश सबसे ज्यादा बार सीएम (Nitish Kumar CM) की शपथ लेने वाले देश के पहले नेता हैं.  नीतीश कुमार के बाद सबसे ज्यादा मुख्यमंत्री बनने का रिकॉर्ड हिमाचल प्रदेश के वीरभद्र सिंह और तमिलनाडु की सीएम रहीं जयललिता के पास है. इन दोनों नेताओं ने छह बार सीएम पद की शपथ ली थी. सिक्किम के सीएम रहे पवन कुमार चामलिंग, पश्चिम बंगाल के सीएम रहे ज्योति बसु, अरूणाचल प्रदेश के सीएम रहे गेगोंग अपांग, मिजोरम के सीएम ललथनहावला, पंजाब के सीएम रहे प्रकाश सिंह बादल और ओडिशा के वर्तमान सीएम नवीन पटनायक पांच-पांच बार सीएम पद की शपथ ले चुके हैं.

नीतीश कुमार का सीएम का कार्यकाल:

पहली बार सिर्फ सात दिन के लिए सीएम बने नीतीश, तीन मार्च 2020 से 10 मार्च 2020

दूसरा कार्यकाल: साल 2005- साल 2010 (बीजेपी गठबंधन के साथ सरकार बनाया)

तीसरा कार्यकाल: साल 2010-2014 ( 2013 में बीजेपी से अलग हुये, उसके बाद लोकसभा चुनाव में मिली हार की जिम्मेदारी लेते हुये छोड़ा पद और जीतन राम मांझी को मुख्यमंत्री बनाया)

चौथा कार्यकाल- जीतन राम मांझी को हटाकर 2015 में फिर सीएम बने नीतीश कुमार.

पांचवां कार्यकाल- 2015 में आरजेडी के साथ गठबंधन कर सत्ता में आये और सीएम बने.

छठा कार्यकाल- 2017 में आरजेडी से अलग हुये और बीजेपी के साथ मिलकर सरकार बनाईं.

सातवां कार्यकाल- साल 2010 में बीजेपी गठबंधन के साथ चुनाव लड़ा और सीट कम होने के बावजूद बीजेपी ने उन्हें सीएम बनाया.

आठवां कार्यकाल- साल 2022, नौ अगस्त 2022 को बीजेपी से अलग हुये और 10 अगस्त को आरजेडी के साथ मिलकर दुबारा सरकार बनाई.

देश प्रदेश की अन्य लेटेस्ट खबरों के लिये Boundaryline.in पर क्लिक करें. आप हमसे फेसबुकइंस्टाग्राम और ट्विटर के माध्यम से भी जुड़ सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *