Categories

September 27, 2022

Boundary Line Newsportal

News Innovate Your World

बिहार के पंचायत और नगर निकाय शिक्षकों को मिला तोहफा, राज्य में 33916 शिक्षकों की होगी नियुक्ति

1 min read
Nitish Kumar

Nitish Kumar

पटना. बिहार की नीतीश सरकार ने राज्य के पंचायत और नगर निकाय शिक्षकों को बड़ा तोहफा दिया है। पटना के गांधी मैदान में झंडोतोलन के बाद सीएम ने कहा कि इन शिक्षकों के लिये नई सेवा शर्त शीघ्र लागू होगा। साथ ही साथ इन शिक्षकों को कर्मचारी भविष्य निधि का लाभ भी दिया जायेगा। सीएम ने राज्य में जल्द ही 33916 शिक्षकों की नियुक्ति की घोषणा की।

बिहार में चुनावी साल में घोषणाओं का सिलसिला जारी है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि पंचायत और नगर निकाय शिक्षकों की बेहतर सेवा शर्त के लिये नई नियमावली बनाई गई है, जिसे जल्द ही लागू किया जायेगा। उन्होंने कहा कि ग्राम पंचायतों में नये स्थापित उच्च माध्यमिक विद्यालयों में शिक्षकों की नियुक्ति होगी। 33916 शिक्षकों की नियुक्ति का विज्ञापन जल्द निकाला जायेगा।

नीतीश कुमार ने कहा कि विश्वविद्यालय सेवा आयोग को 4000 विश्वविद्यालय कॉलेज शिक्षकों की नियुक्ति के लिये एक माह के भीतर अधियाचना भेजी जायेगी। सीएम ने इसके अलावा राज्य में 4000 चिकित्सकों और 4997 नर्सों की नियुक्ति जल्द करने की घोषणा की। सीएम ने कहा कि कोरोना से मुक्त हुए लोगों के प्लाजमा दान करने वाले हर व्यक्ति को 5000 रूपये की प्रोत्साहन राशि दी जायेगी। मुख्यमंत्री ने बेहतर प्रदर्शन करने वाले 250 खिलाड़ियों की नियुक्ति की भी घोषणा की।

Bihar Corona Update: बिहार में 98 हजार के पार कोरोना मरीजों की संख्या, 3911 नये मरीज मिले 

कोरोना वायरस के चलते इस बार स्वतंत्रता दिवस समारोह के दौरान रौनक कम दिखी। नीतीश कुमार ने नौ बजे झंडोतोलन किया। झंडोतोलन के बाग सीएम ने मास्क लगाकर 11 टुकड़ियों की सलामी ली। इस बार सिर्फ पासधारक ही समारोह में पहुंचे।

सीएम ने कहा कि बाढ़ की स्थिति पर नजर रखी जा रही है। बाढ़ पीड़ितों के बीच राशि की वितरित की जा रही है। आपदा पीड़ित लोगों को सरकार के खजाने पर हक है। छह हजार रूपये प्रति परिवार की दर से बाढ़ पीड़ितों को मदद दी गई है। अब तक सात लाख 79 हजार बाढ़ पीड़ितों को अब तक यह पैसा दिया जा चुका है।

उन्होंने कहा कि लॉ एंड ऑर्डर को लेकर हमारी सरकार बेहतर काम कर रही है। देश में अपराध के राष्ट्रीय औसत दर में कमी आई है। सांप्रदायिक सौहार्द और सामाजिक सद्भाव के लिये काम कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.